Politics

कोरोना के बढ़ते मामलों पर सतर्क केंद्र; मंगलवार को मुख्यमंत्रियों संग बैठक करेंगे PM मोदी

कोरोना के बढ़ते मामलों पर सतर्क केंद्र; मंगलवार को मुख्यमंत्रियों संग बैठक करेंगे PM मोदी
कोरोना के बढ़ते मामलों पर सतर्क केंद्र; मंगलवार को मुख्यमंत्रियों संग बैठक करेंगे PM मोदी
318views

भारत के कई राज्यों में कोरोना वायरस मामलों में वृद्धि देखी गई है, जिसके बाद पीएम मोदी ने मंगलवार को कुछ राज्य के सीएम के साथ एक सम्मेलन करने का फैसला किया है। जबकि सीएम की सूची जारी नहीं की गई है, वर्तमान में हिमाचल प्रदेश, दिल्ली, राजस्थान, हरियाणा, केरल और गोवा भारत के नए कोविड -19 हॉटस्पॉट हैं, जहां दीवाली के बाद ज्यादा पॉजिटिव मामले देखे गए। वर्तमान में, भारत में 91,39,866 मामले सामने आ चुके हैं जिसमें सक्रिय मामलों की संख्या 4,43,486 और मरने वालों की 1,33,738 है।

पहले भी हो चुके हैं पीएम-सीएम सम्मेलन

कोरोना वायरस महामारी के बीच पीएम मोदी ने सभी सीएम के साथ अबतक सात सम्मेलन किए हैं। पिछली बैठकें कोरोना से लड़ने के लिए देश की रणनीति पर चर्चा करने के लिए हुई थीं और इसके परिणामस्वरूप देश भर में लॉकडाउन लगाया गया जिसमें आखिरी वाले में कुछ ढील भी दी गई थी। जबकि पहली बैठक में सभी सीएम शामिल हुए थे, केरल के सीएम पिनराई विजयन ने पिछली कई बैठकों के लिए एक प्रतिनिधि भेजा है। 

अधिकांश सीएम ने अपनी शिकायतों रखीं और लॉकडाउन लगाने और बाद में प्रतिबंध हटाने के केंद्र सरकार के कदम का समर्थन किया। वर्तमान में, हम अनलॉक -6 में हैं, जिसमें सिर्फ अंतरराष्ट्रीय यात्रा प्रतिबंधित है और कई राज्यों में शिक्षण संस्थान बंद हैं।

भारत के कुछ हिस्सों में कर्फ्यू

जबकि दिल्ली ने लॉकडाउन से इनकार कर दिया है, इसने मास्क ना पहनने पर जुर्माना बढ़ाकर 2000 रुपये कर दिया है। गुजरात ने अहमदाबाद में 3 दिन का लॉकडाउन शुरू किया है, राजकोट, सूरत और वडोदरा में 21 नवंबर से रात का कर्फ्यू लगा है। इसी तरह, मध्य प्रदेश में 21 नवंबर से भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, रतलाम और विदिशा जिलों में रात का कर्फ्यू लागू किया गया। 

राजस्थान ने भी 8 जिलों जयपुर, जोधपुर, कोटा, बीकानेर, उदयपुर, अजमेर, अलवर और भीलवाड़ा में रात का कर्फ्यू लगाने का फैसला किया है। फेस मास्क न पहनने पर 200 रुपये से लेकर 500 रुपये तक का जुर्माना लगाया गया है। इसके अलावा, हिमाचल ने भी शिमला में रात का कर्फ्यू लगा दिया है, जबकि महाराष्ट्र 8-10 दिनों में लॉकडाउन पर फैसला करेगा।

साथ ही कोरोना वैक्सीन को लेकर एक अच्छी खबर आई है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित किये जा रहे कोविड-19 की वैक्सीन के तीसरे चरण के परीक्षण के अंतरिम परिणाम सोमवार को प्रस्तुत किये गए जिसमें यह संक्रमण की रोकथाम में ‘प्रभावी’ पाया गया है।

एस्ट्राजेनेका कंपनी की मदद से वैक्सीन का विकास किया जा रहा है। दो बार की खुराक के सामूहिक आंकड़ों को देखें तो वैक्सीन का प्रभाव 70.4 प्रतिशत देखा गया। वहीं दो अलग-अलग खुराकों में इसका प्रभाव एक बार 90 प्रतिशत और दूसरी बार 62 प्रतिशत रहा। शुरुआती संकेतों से लगता है कि यह वैक्सीन बिना लक्षण वाले संक्रमण के मामलों में वायरस के प्रसार को कम कर सकती है।