BREAKING NEWS
7 सालों में BJP अध्यक्ष अमित शाह की संपत्ति 3 गुना बढ़कर 38.81 करोड़ रूपए हुई

7 सालों में BJP अध्यक्ष अमित शाह की संपत्ति 3 गुना बढ़कर 38.81 करोड़ रूपए हुई Featured

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने शनिवार को गांधीनगर लोकसभा सीट से नामांकन दाखिल किया. अमित शाह के हलफनामे से पता चलता है कि उनकी संपत्ति पिछले सात साल में तीन गुना बढ़ी है. हलफनामे के मुताबिक, अमित शाह और उनकी पत्नी की चल और अचल संपत्ति 2012 के 11.79 करोड़ रूपए से बढ़कर 38.81 करोड़ रूपये हो गई है.

 

इसके अनुसार, 38.81 करोड़ रूपये की संपत्ति में 23.45 करोड़ रूपए की विरासत में मिली संपत्ति, चल और अचल संपत्ति भी शामिल है.  नामांकन दाखिल करते वक्त तक अमित शाह के पास 20,633 रूपए नकद थे, जबकि उनकी पत्नी के पास 72,578 रूपए थे.

 

 

 

 

हलफनामे के मुताबिक, अमित शाह और उनकी पत्नी के कई बैंक बचत खाते में 27.80 लाख रूपए थे और 9.80 लाख रूपए के फिक्सड डिपॉजिट हैं. अमित शाह और उनकी पत्नी की आमदनी उनकी नई आयकर विवरणी (आईटीआर) के मुताबिक 2.84 करोड़ रूपए है.

About Author

Senior Reporter @Welcome Times

The  reporter is an investigative journalist who initiates, researches and reports a mixture of daily, weekly, and long-form watchdog and investigative journalism for publication on the Center's website and for distribution in digital, print and broadcast outlets of our media partners

Related items

  • पीएम मोदी का कांग्रेस पर बड़ा हमला, कहा- इनकी नीतियों के कारण पूर्वोत्तर में घुसपैठ की समस्या

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को असम के गोहपुर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस पार्टी पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि राज्य के युवाओं को बुजुर्गों से इस बारे में जानना चाहिए कि किस तरह से कांग्रेस ने असम के साथ बार-बार विश्वासघात किया है.

     

     

    गोहपुर (असम): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को असम के गोहपुर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस पार्टी पर जमकर निशाना साधा. कांग्रेस पर प्रहार करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इस पार्टी की नीतियों के कारण पूर्वोत्तर के राज्य 1970 के दशक से घुसपैठ की समस्या झेल रहे हैं.

     

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनसभा में कहा कि यहां के युवाओं को बुजुर्गों से इस बारे में जानना चाहिए कि किस तरह से कांग्रेस ने असम के साथ बार-बार विश्वासघात किया है. पीएम मोदी की शनिवार को असम में यह दूसरी रैली थी.

     

     

    प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘क्या असम के लोग उन लोगों का समर्थन करेंगे जो देश हित के खिलाफ काम कर रहे हैं? जो लोग हमारे देश की प्रगति का समर्थन नहीं करते, क्या वे असम के विकास की फिक्र करेंगे?’’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा ही लोगों को धोखा दिया लेकिन ‘चौकीदार’ घुसपैठ, आतंकवाद और भ्रष्टाचार से लड़ेगा.

     

    पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रहित में जनसंघ और अटल बिहारी वाजपेयी जैसे कद्दावर नेता ने बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के दौरान बांग्लादेश के समर्थन में अपनी आवाज उठाई थी.

  • सुल्तानपुर जाकर भावुक हुईं मेनका गांधी, कहा- यहां से पति और बेटे ने लड़ा था चुनाव

    केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी का सुल्तानपुर के लोगों से पुराना नाता है. सुल्तानपुर पहुंचकर मेनका गांधी ने कहा कि उन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत यहीं से की थी. यहां से उनके पति संजय गांधी और फिर वरुण गांधी ने चुनाव जीता. आपको बता दें कि इस बार बीजेपी ने मेनका गांधी का टिकट बदलते हुए उनको सुल्तानपुर से उम्मीदवार बनाया है. फिलहाल इस सीट से वरुण गांधी सांसद हैं.

     

    केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्री मेनका गांधी को भारतीय जनता पार्टी ने जिस सुल्तानपुर लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में उतारा है, उससे उनका गहरा नाता है. इसकी जानकारी मेनका गांधी ने खुद सुल्तानपुर पहुंचकर दी. इस सीट से बीजेपी प्रत्याशी घोषित किए जाने के बाद शनिवार को पहली बार सुल्तानपुर पहुंचीं मेनका गांधी का पार्टी कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत किया. वो अमेठी के रास्ते सुल्तानपुर में प्रवेश किया और पार्टी कार्यकर्ताओ के साथ रोड शो किया.

    आपको बता दें कि बीजेपी ने इस बार केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी और उनके बेटे वरुण गांधी की सीटें आपस में बदल दी है. वरुण गांधी उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर से सांसद हैं, लेकिन इस बार उन्हें पीलीभीत से टिकट दिया गया है. वहीं, पीलीभीत से सांसद मेनका गांधी को सुल्तानपुर संसदीय सीट से टिकट मिला है.

    शनिवार बीजेपी नेता मेनका गांधी ने कहा कि सुल्तानपुर से उनका अभी का नहीं, बल्कि पुराना नाता है. पहले उनके पति संजय गांधी यहां से चुनाव लड़े थे और बाद में बेटे वरुण गांधी सुल्तानपुर लोकसभा सीट से चुनाव जीते. उनके पति संजय गांधी का सुल्तानपुर-अमेठी से पुराना लगाव था और उन्होंने अपने पति के साथ ही सुल्तानपुर से अपना राजनीतिक जीवन शुरू किया था.

    शनिवार को सुल्तानपुर के तिकोना पार्क मे बूथ कार्यकर्ताओ और पार्टी पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी बेहद भावुक हो गईं. उन्होंने कहा, ‘जब मैं विधवा हुई तो मेरा बेटा वरुण गांधी 100 दिन का था. उस समय मैंने खुद को बहुत अकेला महसूस करते हुए भगवान के ऊपर सब कुछ छोड़ दिया था. आज मैं जो इतनी भारी कार्यकर्ताओं की सेना देख रही हूं और जो उनमें उत्साह दिखाई पड़ रहा है उससे हम लोकसभा चुनाव जीतेंगे.’

     

    तिकोना पार्क में आयोजित बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘आपके उत्साह और लगन से हम लोकसभा चुनाव जीतेंगे. आपको अपने होने वाले सांसद के बारे में भी जानना जरूरी है. मैं पीलीभीत से सात बार क्यों चुनाव जीती? हर किसी को यह मालूम है कि मेनका गांधी के पास कोई भी इंसान मदद मांगने आया, तो वह खाली हाथ नहीं लौटा. मुझको इंसान के अलावा जानवरों से भी प्यार है.'

    मेनका गांधी ने कहा, ‘मैंने अपने बेटे वरुण गांधी को सुल्तानपुर का प्रतिनिधित्व करने के लिए भेजा था. वरुण ने भी सुल्तानपुर के लिए बहुत कुछ किया. वो तो हर महीने का अपना वेतन भी गरीबों के लिए खर्च करता रहा, जो मैं नहीं कर सकी.’ इस दौरान मेनका गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जमकर तारीफ की. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने देश में जो कुछ किया, उसे भुलाया नहीं जा सकता. उन्होंने महिलाओं के लिए शौचालय, गरीब किसानों के लिए उनके खाते में 6 हजार रुपये की सहायता राशि, आयुष्मान योजना और उज्ज्वला योजना जैसी कई सुविधाएं आम जनता को मुहैया कराईं.

  • यूरोपीय सांसदों ने कश्मीर में आफ्सपा और पैलेट गन के इस्तेमाल पर जताई चिंता

    कश्मीर में सुरक्षा बल विशेष अधिकार अधिनियम, जन सुरक्षा कानून और पैलेट गन के इस्तेमाल के खिलाफ मेंबर्स ऑफ द यूरोपियन पार्लियामेंट के 50 सांसदों ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखा है. सांसदों की मांग है कि कश्मीर में सुरक्षाबलों को दिए गए विशेष अधिकारों पर रोक लगे और पैलेट गन का इस्तेमाल न किया जाए.

     

    कश्मीर में सुरक्षाबलों को दिए गए विशेष अधिकारों और पैलेट गन के इस्तेमाल के खिलाफ यूरोप में मुहिम शुरू हुई है. यूरोपीय संसद के 50 सदस्यों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग की है कि कश्मीर में पैलेट गन का इस्तेमाल न किया जाए. यूरोपीय सांसदों ने चिट्ठी लिखकर पीएम मोदी से अपील की है कि जम्मू कश्मीर में भीड़ को नियंत्रित करने के नाम पर पैलेटगन के इस्तेमाल पर रोक लगे.

    सांसदों ने यह भी मांग की है कि सुरक्षा बल विशेष अधिकार अधिनियम (AFSPA) और जन सुरक्षा कानून(पीएसए) जैसे कानूनों को खत्म कर दिया जाए.

    मेंबर्स ऑफ द यूरोपियन पार्लियामेंट (एमईपीएस) ने 25 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पत्र लिखा. इस पत्र में लिखा गया है,  'हम यूरोपीय संसद के निर्वाचित सदस्य हैं. इस अधिकार से आपका ध्यान पहले और वर्तमान में कश्मीर के लोगों के मानवाधिकार उल्लंघन मामले दिलाना चाहते हैं. हम OHCHR1 की हालिया रिपोर्ट देखने के बाद कश्मीर के मामले में गहरी चिंता व्यक्त करते हैं.'

    इस पत्र में हिबा निसार का भी जिक्र किया गया है. हिबा निसार पिछले साल नवंबर में पैलेट गन के इस्तेमाल के चलते घायल हो गई थी. पत्र में लिखा गया है कि 'हम खासतौर पर 19 माह की बच्ची के दुखद मामले का जिक्र करना चाहेंगे, जो पैलेट गन की चोट से बुरी तरह घायल हो गई थी.'

     

    जानकारी के लिए बता दें कि AFSPA 1990 और जम्मू कश्मीर जन सुरक्षा कानून 1978 (PSA) सुरक्षा बलों को मानवाधिकार उल्लघंन से काफी हद तक सुरक्षा देते हैं. यूरोपीय सांसदों की मांग है कि पैलेट गन का इस्तेमाल तत्काल बंद किया जाना चाहिए और जम्मू और कश्मीर में लागू सभी भारतीय कानूनों को मानवाधिकार के तय मानकों के अनुसार ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए.

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.