BREAKING NEWS
कोई बच्चों से नहीं कर रहा बात तो कोई घर बेचने को तैयार, 22 हजार सपनों को लेकर नीचे उतरी जेट कोई बच्चों से नहीं कर रहा बात तो कोई घर बेचने को तैयार, 22 हजार सपनों को लेकर नीचे उतरी जेट कोई बच्चों से नहीं कर रहा बात तो कोई घर बेचने को तैयार, 22 हजार सपनों को लेकर नीचे उतरी जेट

कोई बच्चों से नहीं कर रहा बात तो कोई घर बेचने को तैयार, 22 हजार सपनों को लेकर नीचे उतरी जेट Featured

चार महीने तक संकट से जूझने के बाद जेट एयरवेज की उड़ानें बुधवार से बंद हो गईं। जेट एयरवेज के बंद होने से करीब 22 हजार लोगों की नौकरियां प्रभावित हुई हैं। स्किल्ड से लेकर सेमी-स्किल्ड तक, आज जेट के तमाम कर्मचारी परेशान हैं। कर्मचारियों के सामने अब आजीविका की समस्या खड़ी हो गई है। जेट एयरवेज के बंद होने से प्रभावित कर्मी दिल्ली में जंतर मंतर पर जुटे, जहां उन्होंने 'जेट को बचाओ, हमारे परिवार को बचाओ' के नारे लगाए। 
 

इतना बुरा है जेट के कर्मचारियों का हाल

 

जेट के कर्मचारियों को पिछले तीन महीनों से ही वेतन नहीं मिल रहा था। जेट के 22 हजार कर्मचारियों की नींद उड़ गई है और सरकार से अपील कर रहे हैं कि उनके लिए महत्वपूर्ण कदम उठाए जाएं।
 
 
जेट के 53 वर्षीय कर्मचारी ने बताया कि उन्हें पिछले दो महीनों से वेतन नहीं मिला था और अब अपने दो बच्चों के पालन के लिए और अपने परिवार के लिए उन्हें अपना घर तक बेचना पड़ सकता है।


एक अन्य कर्मचारी पूजारी ने कहा कि, 'नौकरी छूटने की वजह से मैं पूरी रात नहीं सो पाई। मेरे हाथ बंधे हैं। मैं अपनी परेशानी अपने बच्चों को भी नहीं बता पा रही हूं।'


वहीं जेट के एक इंजीनियर ने बताया कि उन्होंने अपने बच्चों की ट्यूशन भी बंद कर दी है। अब वो घर पर ही अपने बच्चों को पढ़ा रहे हैं। कई कर्मचारियों के पास होम लोन या अपने बच्चों के स्कूल की फीस देने के लिए भी पैसे नहीं हैं। 
 
Read 99 times Last modified on Saturday, 27 April 2019 10:34
Rate this item
(0 votes)

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.