BREAKING NEWS
बीएसपी अध्यक्ष मायावती पर आरोप लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई है कि मायावती ने सरकारी पैसे से अपनी और बीएसपी चुनाव चिन्ह हाथी की मूर्तियां लगवाई. इसपर करोड़ों का खर्च आया. बीएसपी अध्यक्ष मायावती पर आरोप लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई है कि मायावती ने सरकारी पैसे से अपनी और बीएसपी चुनाव चिन्ह हाथी की मूर्तियां लगवाई. इसपर करोड़ों का खर्च आया. मायावती ने SC में कहा- सरकार के पैसे से राम की मूर्ति लगी, मैंने भी जनता की इच्छा से अपनी प्रतिमा लगवाई

मायावती ने SC में कहा- सरकार के पैसे से राम की मूर्ति लगी, मैंने भी जनता की इच्छा से अपनी प्रतिमा लगवाई Featured

बीएसपी प्रमुख मायावती ने उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान राज्य में विभिन्न स्थानों पर उनकी आदमकद प्रतिमाओं तथा पार्टी के चुनाव चिन्ह हाथी बनाए जाने का सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को बचाव किया. उन्होंने कहा कि ये प्रतिमाएं ‘‘लोगों की इच्छा’’ जाहिर करती हैं.

 

मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश की वर्तमान बीजेपी सरकार ने सरकारी राजस्व से अयोध्या में भगवान राम की 221 मीटर ऊंची प्रतिमा निर्माण की पहल की है. उन्होंने कहा कि स्मारक बनवाना और मूर्ति लगवाना भारत में ‘‘नई बात’’ नहीं है.

 

 

उन्होंने शीर्ष अदालत से कहा कि अतीत में कांग्रेस पार्टी ने भी देशभर में पंडित जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और पी वी नरसिंह राव सहित अपने नेताओं की मूर्तियां लगवाई हैं. मायावती ने राज्य सरकारों द्वारा मूर्तियां लगवाने की हालिया घटनाओं का भी जिक्र किया जिसमें गुजरात में ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’ नाम से चर्चित सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रतिमा शामिल है.

 

मायावती ने शीर्ष अदालत में हलफनामे में कहा, ‘‘इसी तरह से, केन्द्र और राज्य में सत्तासीन अन्य राजनीतिक दलों ने समय समय पर सरकारी धन से सार्वजनिक स्थानों पर विभिन्न अन्य नेताओं की मूर्तियां लगवाई हैं लेकिन न तो मीडिया और ना ही याचिकाकर्ताओं ने इस संबंध में कोई सवाल उठाया है.’’

 

सुप्रीम कोर्ट एक अधिवक्ता द्वारा 2009 में दायर याचिका पर सुनवाई कर रहा था. वकील ने आरोप लगाया गया था कि मायावती के उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रहते हुए विभिन्न स्थानों पर उनकी और बीएसपी चुनाव चिन्ह हाथी की मूर्तियां लगवाने के लिए 2008-09 और 2009-10 के राज्य बजट से करीब दो हजार करोड़ रुपये इस्तेमाल किये गये.

 

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने एक हलफनामे में कहा कि प्रतिमाएं और स्मारक बनाने के पीछे की मंशा समाज सुधारकों के मूल्यों और आदर्शों का प्रचार करना है ना कि बीएसपी के चिन्ह का प्रचार या उनका खुद का महिमामंडन करना.

 

बीएसपी प्रमुख ने कहा कि उन्होंने अपना पूरा जीवन कमजोर समाज के उत्थान में समर्पित कर दिया और इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए ‘‘मैंने अविवाहित रहने का फैसला भी किया.’’

 

 

उन्होंने कहा कि राज्य विधानसभा की मंजूरी के बाद बजटीय आवंटन के जरिये स्मारकों के निर्माण और प्रतिमाएं लगाने को मंजूरी दी गई. मायावती ने प्रतिमाओं के निर्माण में सार्वजनिक कोष के दुरुपयोग का आरोप लगाने वाली याचिका खारिज करने की मांग करते हुए इसे राजनीति से प्रेरित और कानून का घोर उल्लंघन बताया.

 

सुप्रीम कोर्ट ने आठ फरवरी को मौखिक टिप्पणी में कहा था कि मायावती को उत्तर प्रदेश में सार्वजनिक स्थानों पर अपनी और पार्टी के चिन्ह हाथी की मूर्तियां लगाने के लिए इस्तेमाल किया गया सार्वजनिक धन सरकारी कोष में जमा कराना चाहिए.

 

पीठ ने तब कहा था, ‘‘मायावती सारा पैसा वापस करिए. हमारा मानना है कि मायावती को खर्च किए गए सारे पैसे का भुगतान करना चाहिए.’’ उसने कहा था, ‘‘हमारा फिलहाल मानना है कि मायावती को अपनी और अपनी पार्टी के चिह्न की प्रतिमाओं पर खर्च किया जनता का पैसा सरकारी राजकोष में जमा कराना होगा.’’

 

 

Read 300 times Last modified on Saturday, 06 April 2019 06:28
Rate this item
(0 votes)

4 Responses Found

  • Comment Link
    Virtual Assistant Monday, 04 November 2019 00:39

    There's definately a lot to know about this topic. I love all of the points you made.

  • Comment Link
    Virtual Assistant Services Monday, 14 October 2019 01:49

    Like this post. There are a multitude of reasons why delegation to a virtual assistant is crucial, especially if you are a business executive. You need to be able to focus on the activities that generate income and not get stuck by those that do not.

  • Comment Link
    Virtual Assistant Monday, 07 October 2019 22:40

    A Virtual Assistant boosts your return on investment. People believe that reducing costs is the ultimate goal, but outsourcing to a VA delivers more than just lower production costs. You also operate with higher efficiency which allows you to serve your clients better, therefore allowing you to see higher returns.

  • Comment Link
    Virtual Assistant Monday, 07 October 2019 22:21

    Like this post. There are many reasons why delegation to a virtual assistant is extremely important, especially if you are a business leader. You need to be able to focus on the tasks that generate income and not get bogged down by tasks that don't.

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.